सोनू निगम : संगीत का अनघ सितारा

Spread the love

सोनू निगम : संगीत का अनघ सितारा

साल 2010 में दक्षिण भारत की एक बहुचर्चित फिल्म  ” कंधार” रिलीज हुई थी । श्री अमिताभ बच्चन जी जैसे दिग्गज कलाकारों से अलंकृत यह फिल्म अपने संगीत की वजह से भी खास चर्चा में रही थी ।

बात उस वक़्त की है, जब इस फिल्म का एक बहुत ख़ास गाना ” नमन है ” की रिकॉर्डिंग चल रही थी ।
संगीतकार समीर टंडन ने पूरे गाने को तार सप्तक के

सुरों में सजाया था , और मुसीबत थी कि इस गाने को अब गाए कौन । इतने ऊंचे सुरों में गाने को बिना उसके भाव को बिगाड़े आखिर गाएगा कौन ।
ऊंचे सुरों में चिल्लाने वाले गायक तो बहुतेरे हैं, पर उन सुरों को अपनी आवाज़ से सहला कर गाने वाले लोग अभी भी फिल्म जगत में कम ही हैं ।
आख़िरकार इस मुश्किल गाने को आवाज़ देने के लिए बुलाया गया आधुनिक दौर के मुहम्मद रफ़ी ‘ सोनू निगम ‘ जी को ।

 

सोनू निगम की आवाज़ सुरों को सिर्फ गाती नहीं है, बल्कि उन्हें भावों से भर कर सहलाना जानती है ।
इस गाने के अभ्यास के समय समीर ने कहा कि अगर आप चाहें तो इसको थोड़े निचले सुरों में भी गा सकते हैं ।
सोनू जी ने गाने को मूल स्वरों में ही गाना पसंद किया।
उस गाने के रिकॉर्डिंग के दौरान हुए अपने अनुभव को
समीर बताते हुए कहते हैं –
“सोनू ने ज्यों ही तारसप्तक को छुआ, स्टूडियो के सभी कांच हिलने लगे ।
हम सबके रौंगटे खड़े हो गये थे ।
जहां आजकल के गायक तारसप्तक गाने की सोच भी नहीं सकते उस ऊँचाई पर सोनू जी ने बिना
सुर डगमगाए बडी आसानी से गा लिया । “

 



सोनू जी ने अपने पार्श्व गायकी की शुरुआत ‘ जनम ‘
फिल्म के एक गाने से की थी , जो कभी आधिकारिक तौर पर रिलीज़ नहीं हुई ।
सोनू को गुलशन कुमार जी ने उस वक़्त की जबरदस्त हिट एल्बम ‘ रफी की यादें ‘ में गाने का मौका दिया ।

आज के बहुतेरे गायक जहां रफी के गाने को छूने से भी घबराते हैं, सोनू निगम ने उन गानों को इतने खूबसूरती से गाया कि उस दौर में उन्हें ‘ रफी क्लोन ‘ कहा जाने लगा ।
आज भी अगर आप ‘ रफ़ी की यादें ‘ एल्बम के गीत सुनेंगे तो आप के लिए अंतर करना मुश्किल हो जाएगा कि सोनू गा रहे हैं या मुहम्मद रफ़ी ।
बेवफा सनम गाने ” अच्छा सिला दिया ” हों या फिर बॉर्डर फिल्म का गाना ‘ संदेशे आते हैं ‘ , सोनू का गला जिस गाने को छूता था, वो गाने अमर हो जाते थे ।

बाद में शाहरुख खान अभिनीत फिल्म ‘ परदेस ‘ में सोनू ने ‘ ये दिल दीवाना ‘ गा कर रफ़ी क्लोन वाले छवि को तोड़ा और साबित किया कि वेस्टर्न गानों में भी वो अव्वल हैं ।
उस के बाद तो जैसे सोनू निगम हिट मशीन बन गए।
‘ दीवाना ‘ , ‘ जान ‘ और याद जैसी एल्बमों ने तो जैसे तहलका मचा दिया ।

 

 


दीवाना एल्बम भारत में अब तक के सबसे ज्यादा बिकने वाले एल्बमों में से एक है ।
सोनू ने हिंदी के अलावा कन्नड़ , मलयाली , बंगाली , उड़िया तथा मराठी जैसे 14 अन्य भाषाओं में अपने आवाज़ की उपस्थिति दर्ज कराई है ।
पॉप , रॉक , क्लासिकल , सेमी क्लासिकल , ग़ज़ल , प्लेबैक सिंगिंग तथा अन्य कई विधाओं में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले सोनू निगम भारत के सबसे ज्यादा विविधताओं में गाने वाले गायकों में से एक हैं ।

सोनू का गाया एल्बम ‘ क्लैक्सिकली माइल्ड ‘ , सेमी क्लासिकल संगीत के प्रेमियों के लिए एक बहुमूल्य तोहफा है ।

आज के दिन बहुमुखी प्रतिभा के धनी सोनू निगम का जन्म हुआ था ।

आइए उनके जन्मदिन के अवसर पर उनकी आवाज़ में सुनते हैं यह बेहरीन गाना और निकल पड़ते हैं एक अंतहीन सुखद यात्रा पर …

https://youtu.be/6lk6WcRjIhM


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: