चीनी आधा चम्मच : नवनीश भारद्वाज

Spread the love

कुछ अरसे से भावी पीढ़ी का रुझान हिन्दी व साहित्य की ओर बढ़ा।इसके कई कारण हो सकते हैं,पर एक कारण है नई वाली हिन्दी और इ-बुक्स का प्रचलन।
वर्तमान के बहुत से लेखक इसी कॉन्सेप्ट की नींव पर अपनी पुस्तकें लिख रहे हैं और यही उनकी लोकप्रियता का कारण है।साधारण भाषा में कविताएं,कहानियां पढ़ता पाठक उसका एक एक दृश्य अपने सामने उकेरता है जिसके लिए उसे किसी शब्दकोश की ज़रूरत नही होती। ऐसा ही एक कहानी संग्रह है

पहली कहानी

स्कूल की दोस्ती के किरदार आपको आपके बचपन की सैर करवा देती है और उनका आपसी संवाद ऐसा कि आपको लगेगा ये बात तो मैंने कभी अपने दोस्त से भी कही थी।बचपन की मासूमियत इसी वाक्य में दिखती है,जब कहानी में पात्र छोटा बच्चा पिटाई से बचने के लिए हनुमान चालीसा पढ़ता है पर फिर भी पिटाई होने पर उच्चारण में दोष,कोई लाइन खा जाने का संदेह और हनुमान जी का किसी और केस में इन्वॉल्वमेंट का सोच कर अपना विश्वास अटूट बनाये रखता है।

दूसरी कहानी

कहानी समथिंग इज़ मिसिंग में किरदार अपनी एक उलझन में भटकता हुआ नज़र आता है जो अपनी ज़िंदगी के 12 घंटे भूल जाता है।उस दौरान उसे क्या होता है ये जानने की जद्दोजहद में डॉक्टर तक पहुंचता है पर अंत तक एक मिस्ट्री बनी रहती है।

तीसरी कहानी

कुछ लोग जिन्हें हम रोज़ देखते है और उनकी पर्सनेलिटी हम पर गहरी छाप छोड़ देती है।उस इंसान की हम अपने जीवन में कल्पना करने लगते है और वह कल्पना,वास्तविकता के शोर से किसी सपने सी टूट जाती है ।ऐसी ही एक कल्पना है कहानी अजनबी लड़की

चौथी कहानी

इस संग्रह का शीर्षक चीनी आधा चम्मच ही इसकी अंतिम कहानी का टाइटल है।टपरी पर सिगरेट के साथ जीवन के दुःखो को सुलगाता एक व्यक्ति जो वहां रोज़ का मेहमान है।अब चाय वाला भी अब उसके स्वाद को जानता है,उसे बताना नही पड़ता कि ‘चीनी आधा चम्मच’।

किताब की लोकप्रियता

अमेज़न किंडल की यह ई-बुक ज़िंदगी के काल्पनिक व वास्तविक किस्सों से बनी हुई है।पात्रों पर फिल्मों और संगीत का प्रभाव भी बहुत अच्छे से दिखाया गया है जो पाठकों को कहानी के और क़रीब लाता है।
हिन्दी के इस नवीनीकरण को लोगों ने सराहा अपनाया है ।यह लेखक का दूसरा कहानी संग्रह है।पहली पुस्तक मोहब्बत-जंक्शन भी बेस्ट सेलर्स में रही और इस पुस्तक को भी पाठको का काफ़ी प्रेम मिला।हाल ही में हुए अमेज़न किंडल ‘पैन टू पब्लिश” में पुस्तक को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है।

Cheeni aadha chammach

आप पढ़ेंगे तो ये कहानीयां आपको बोरियत महसूस नही होने देंगी और चेहरे पर एक मुस्कान ज़रूर छोड़ जाएंगी।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: