“बहुत हुआ सम्मान” :मीठे हंसगुल्ले के साथ चबाइए सामाजिक, राजनीतिक वास्तविकता का कड़वा नीम।

व्यंग,अगर एक तरफ आपको मीठे-मीठे ठहाकेदार हंसगुल्ले खिलाता है, तो वहीं दूसरी तरफ, चखाता है, वास्तविक कड़वे नीम के पत्ते।

Read more

पॉलिटिकल एंटरटेनमेंट से भरपूर एक डॉक्यूमेंट्री जो भारतीय सिनेमाघरों में सबसे ज्यादा दिन तक चलने वाली डॉक्यूमेंट्री फिल्म है..

An insignificant man: डॉक्यूमेंट्री या एंटरटेनमेंट   View this post on Instagram Our film's page is Live on @bmsbookmyshow! Upvote

Read more

अमोल पालेकर:अभी मैं मुख्य रूप से पेंटर हूं!

अमोल पालेकर   एक कलाकार जिसने फाइन आर्ट्स की पढ़ाई पूरी कर पेंटिंग को अपना कलात्मक व्यवसाय बनाया, यू कहें

Read more

तरकोव्स्की की सैक्रिफाइस – आध्यात्मिक कविता

तरकोव्स्की की सैक्रिफाइस – आध्यात्मिक कविता   धीमापन विचार की रीढ़ है. विचार स्फुटित हों इसके लिये इंतजार आवश्यक है.

Read more